इफको में हादसे की जांच करने पांच सदस्यीय सरकारी टीम आई

इफको में  हादसे की जांच करने पांच सदस्यीय  सरकारी टीम आई

प्रयागराज। इफको में बुधवार की रात हुए हादसे में दो अधिकारियों की अमोनिया रिसाव से हुई मौत और 16 लोगों के घायल होने की घटना की तकनीकी जांच और हादसे के मुख्य कारणों का पता लगाने के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित  5 सदस्यों की टीम आज यहां आई और प्लांट में घटनास्थल का निरीक्षण करते हुए अन्य प्लांटों का भी निरीक्षण किया।

‌उत्तर प्रदेश के कारखाना निदेशक ओपी भारती के नेतृत्व में डीपीएस तोमर उप निदेशक कारखाना कानपुर एसी गुप्ता उप निदेशक कारखाना प्रयागराज रामबहादुर उपनिदेशक कारखाना नोएडा तथा जगदीश प्रसाद सहायक निदेशक कारखाना प्रयागराज की टीम ने इफको फूलपुर इकाई प्लांट में पहुंच कर यूरिया प्लांट वन में घटित हुई अमोनिया रिसाव की घटना स्थल का निरीक्षण किया और प्लंजर का  राड कैसे टूटा इसकी तकनीकी रूप से अध्ययन किया 5 सदस्यों की टीम ने  फायर एंड सेफ्टी विभाग का भी निरीक्षण किया और उनके सुरक्षा के उपाय और टूल्स को देखा यही नहीं टीम ने पूरे प्लांट को देखा और वहा कि साफ सफाई सुरछा  तथा प्लांट को चलाने वाले इंजीनियरों एवम तकनीकी कर्मचारियों  की कार्य शैली को भी परखा।

‌कार्यकारी निदेशक एम मसूद ने बताया की कमेटी ने उनसे कुछ जरूरी संबंधित कागजात की मांग की जिसको उपलब्ध करा दिया गया आगे भी उन्हें जो आवश्यकता होगी उसे कराया जाएगा ।उसके बाद उनकी जो भी आख्या आएगी उसका अध्ययन और पालन होगा।

‌जितेंद्र तिवारी अधिकारी के दाह संस्कार में शामिल हुए .‌ अधिकारी संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेंद्र तिवारीने मृतक अधिकारियों के परिजनों और घायलों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी और अभिनंदन कुमार के पार्थिव शरीर के अंतिम संस्कार में शामिल होकर शोक जताया। श्री तिवारी ने विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हुए अमोनिया से प्रभावित अधिकारियों और कर्मचारियों से मिलकर उनका कुशलक्षेम पूछा और उनके अच्छी इलाज की जानकारी ली श्री तिवारी ने यहां के अधिकारी संघ और कर्मचारी संघ के नेताओं से भी मिले और संस्था और कर्मचारियों की सुरक्षा व्यवस्था  का पालन हर हाल में करने करने पर बल दिया।

‌‌ उन्होने बताया कि प्रबंध निदेशक डॉ उदय शंकर अवस्थी  बार-बार यह वक्तव्य और मंतव्य जाहिर करते हुए कहा चूके है कि  उत्पादन भले ही बंद हो जाए या कम हो जाए लेकिन सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए किसी भी तरह की सुरक्षा में लापरवाही होना खतरे का मुख्य कारण होता है इसका सभी को ध्यान में रखकर के ही अपनी ड्यूटी का निर्वहन करना चाहिए श्री जितेंद्र तिवारी कल दिल्ली से प्रबंध निदेशक डॉक्टर अवस्थी के निर्देश पर यहां आए और संपूर्ण घटना की जानकारी लेते हुए मृतकों और उनके परिजनों से संवेदना व्यक्त करते हुए श्रद्धांजलि दी तथा  प्रबंधन से भी इस घटना के बारे में समुचित जानकारी प्राप्त की ।

‌‌उल्लेखनीय है कि श्री तिवारी दिल्ली में अधिकारी संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने की पूर्व लगभग यहां पर 25 वर्ष तक कार्यरत थे और कर्मचारी तथा अधिकारी संघ का कई बार नेतृत्व करते रहे ।